मेरठ दर्पण
Breaking News
मेरठ

डा. मुक्ति भटनागर को नम आंखों से दी गई भावभीनी श्रद्धांजलि

 

मेरठ। सुभारती ग्रुप की संस्थापिका  डा. मुक्ति भटनागर को विश्वविद्यालय परिसर स्थित मांगल्या प्रेक्षागृह में सुभारती परिवार की ओर से श्रद्धांजलि सभा आयोजित करके श्रद्धा सुमन अर्पित किया गया।
सभा का आरम्भ संघमाता डा. मुक्ति भटनागर के चित्र के समक्ष सुभारती परिवार के मुखिया डा. अतुल कृष्ण बौद्ध के नेतृत्व में परिवार के सदस्य डा.शल्या राज, डा. रोहित रविन्द्र, डा. कृष्णा मूर्ति, डा.आकांक्षा, अवनि, राहुल एवं डा.हिरो हितो ने दीप प्रज्जवलन करते हुए पुष्पांजलि के साथ किया। इस दौरान भिक्षु संघ ने बौद्ध विद्वान डा. चन्द्रकीर्ति के साथ मंगलाचरण वंदना प्रस्तुत की।

डा. अतुल कृष्ण बौद्ध ने श्रद्धांजलि सभा में उपस्थित सभी अतिथियों का हृदय से आभार प्रकट किया। उन्होंने अपने द्वारा लिखित भाव को उद्घोषक विवेक संस्कृति के माध्यम से सभी के समक्ष प्रस्तुत किया। जिसमें उन्होंने संघमाता डा. मुक्ति भटनागर के द्वारा चिकित्सा, शिक्षा, समाज सेवा सहित बौद्ध दर्शन के प्रचार प्रसार हेतु किये गये उत्कर्ष्ट कार्यों की गाथा का उल्लेख किया। उन्होंने कहा कि वह डा. मुक्ति के आदर्शों को ग्रहण करते हुए अपने मन को शान्त रखकर शीलों का पालन करने के साथ अपने कष्टों को भूलकर समाज में अन्य लोगो के कष्टों का निवारण करने के लिये तत्पर है। उन्होंने कहा कि संघमाता डा. मुक्ति भटनागर के प्रति सच्ची श्रद्धांजलि देने की दिशा में सुभारती परिवार ने ‘‘संघमाता डा. मुक्ति ग्लोबल बुद्धिस्ट फाउंडेशन‘‘ की स्थापना की है। इस फाउंडेशन के माध्यम से विश्वभर में संघमाता द्वारा विचारित योजनाओं को मानव कल्याण की दिशा में लक्ष्य तक पहुंचाया जाएंगा। उन्होंने कहा कि संघमाता के परिनिर्वाण के बाद भले ही वो मूर्त रूप से हम सबके बीच नही है लेकिन उनके विचार व भावनाएं हम सबके साथ हमेशा है और इन्हीं के माध्यम से सुभारती को उन्नत करते हुए भारत का नाम विश्व पटल पर रोशन किया जाएगा। उन्होंने अंत में कहा कि दुख की इस कठिन घड़ी में जिस प्रकार सुभारती परिवार सहित समाज के हर वर्ग के लोगो ने उन्हें सांत्वना देते हुए मानसिक साहस दिया है, इसके लिये वह हृदय से सभी के आभारी है।

कार्यक्रम में संघमाता के जीवन पर आधारित डॉक्यूमेंट्री फिल्म का प्रदर्शन किया गया। पत्रकारिता संकाय के प्राचार्य डा. नीरज कर्ण सिंह द्वारा संघमाता के जीवन पर लिखित कविता ‘मेरी मॉ मुक्ति‘ सुनाकर उन्होंने सभी को भाव विभोर कर दिया।

इसके अलावा वियतनाम बौद्ध संघ के प्रथम संघ राजा थिक ट्री कुआंग, वियतनाम बुद्धिस्ट विश्वविद्यालय के कुलपति डा. थिक ना थू, विश्व बौद्ध महासंघ के अध्यक्ष डा. पौन चाय पिनया पौ, परम पावन ताई सितुपा रिनपोचे, परम पूज्य डा. धम्मापिया, परम पूज्य अनिरूद्ध श्रीलंका, पूज्य आचार्य किनले गयाल से भूटान, म्यांमार के राजदूत डा. मियो औंग, उत्तर प्रदेश विधानसभा अध्यक्ष श्री हृदय नारायण दीक्षित, सहित देश विदेश की सामाजिक, राजनैतिक, धार्मिक संस्थाओं सहित व्यक्ति विशेषों ने भाव प्रकट करते हुए संघमाता को श्रद्धांजलि अर्पित की।

सुभारती फाईन आर्ट कॉलिज में संघमाता द्वारा बनाई गई अद्भुत भव्य सुन्दर चित्रकारी का अंतर्राष्ट्रीय प्रदर्शनी के माध्यम से ऑनलाइन शुभारंभ किया गया।

सुभारती विश्वविद्यालय की मुख्य कार्यकारी अधिकारी डा.शल्या राज ने संघमाता द्वारा बनाई गई भव्य कलाकृतियों को मांगल्या प्रेक्षागृह की स्क्रीन पर सभी के समक्ष प्रस्तुत किया। उन्होंने कहा कि मॉ के द्वारा की गई चित्रकारी में भारतीय कला, सभ्यता, संस्कार व प्रकृति की छटा बिखरी हुई है। जिसमें मधुबनी, मिथिला, गौंडा सहित संघमाता ने परंपरागत कला में तथागत बुद्ध को अपनी रचनात्मक कला से भव्यता के साथ दर्शाया है।

वैदिक श्लोक फाईन आर्ट कॉलिज से डा. भावना ग्रोवर, डा. आकांक्षा व डा. प्रीति ने प्रस्तुत किया।

अंत में संघमाता के परिनिर्वाण से कुछ दिन पूर्व का ऑडियों संदेश जिसमें उन्होंने सुभारती परिवार के लिये अपना अंतिम संदेश दिया था उसको सुनाया गया। संघमाता के संदेश को सुनकर हर कोई भावुक हो उठा।

मंच संचालन डा. नीरज कर्ण सिंह, ई. अर्चिता भटनागर ने किया।

इस अवसर पर देहरादून के मेयर श्री सुनील उनियाल, भाजपा नेता श्री विनीत अग्रवाल शारदा, एडिशनल डायरेक्टर राजकुमार, अपर जिला जज हर्ष अग्रवाल, सिविल जज विनय कुमार, सीजेएम देवेन्द नाथ गोस्वामी, देशराज, कुलपति डा. वी.पी. सिंह, पूर्व कुलपति डा.एन.के आहूजा, पूर्व जस्टिस राजेश चन्द्रा, प्रति कुलपति डा. विजय वधावन, डा. एसडी खान, सैयद ज़फ़र हुसैन, डा.ए.के. श्रीवास्तव, डा. निखिल श्रीवास्तव, डा. विनीता निखिल, डा सत्यम खरे, डा. वैभव गोयल भारतीय, डा. पिन्टू मिश्रा, डा. पूजा गुप्ता, डा. अभय शंकरगौड़ा, डा. मनोज कपिल, डा. संदीप चौधरी, डा. मनोज त्रिपाठी, ई. विवेक तिवारी, ई. आकाश भटनागर, अनम शेरवानी, विशाल सिंह, डा. आरपी सिंह, हर्षवर्धन कौशिक, शरदचन्द्र, राजकुमार सागर, इंन्द्रपाल, आनन्दपाल, वीरपाल आदि सहित सुभारती परिवार के समस्त सदस्य उपस्थित रहे।

Related posts

रुद्रा इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में मनाया  गया पृथ्वी  दिवस

Ankit Gupta

जन्माष्टमी पर लाखों घरों की बिजली कटी

विधिक जागरूकता न्याय को सर्वसुलभ बनाने का माध्यम –  कुलदीप सिंह

Leave a Comment

Trulli
error: Content is protected !!
Open chat
Need help?
Hello
Welcome to Meerut Darpan News