मेरठ दर्पण
Breaking News
मेरठ

अब भेड़-बकरी के भी बनेंगे आधार कार्ड

मेरठ। देश में आम आदमी के आधार कार्ड बनने के बाद अब भेड़-बकरी के भी आधार कार्ड बनेंगे। दस डिजिट के इस आधार कार्ड से भेड़ और बकरी को अलग पहचान मिलेगी। भेड़-बकरी अपने आधार नंबर का छल्ला कान में पहनेंगी। जबकि इसका कार्ड भेड़-बकरी के मालिक को दिया जाएगा। नेशनल एनिमल डिजीज कंट्रोल प्रोग्राम (एनएडीसीपी) में भेड़ और बकरी को शामिल किया गया है। इसी महीने पशुपालन विभाग भेड़-बकरियों की ईयर टैगिंग शुरू कर देगा।

एनएडीसीपी में पहले भेड़ और बकरी को शामिल नहीं किया गया था। सिर्फ गोवंश और महीष वंशीय पशुओं को ही एनएडीसीपी के तहत इलाज की सुविधाएं मुहैया कराई जा रहीं थीं। गोवंश और महीष वंशीय पशुओं को आधार नंबर देने की मुहिम अंतिम चरण में हैं। केंद्र सरकार ने एनएडीसीपी में भेड़ और बकरी को भी शामिल कर पशुपालकों को राहत दी है। एक-एक भेड़ और बकरी का रिकार्ड एनएडीसीपी के पोर्टल पर दर्ज रहेगा। भेड़-बकरी के उम्र और पालने वाले नाम और पता भी ऑनलाइन रहेगा। भेड़-बकरी को 10 डिजिट का आधार नंबर का छल्ला कान में पहनाया जाएगा। भेड़-बकरियों का बीमा की सुविधा मिल सकेगी।

खुरपका-मुंहपका के टीके लगेंगे :-
एनएडीसीपी के तहत गोवंश और महीष वंश की तरह भेड़-बकरी को खुरपका-मुंहपका के टीके लगाए जाएंगे। बरसात से पहले भेड़-बकरी के खुरपका-मुंहपका के टीके लगाने की मुहिम चलाई जाएगी। जल्द ही वैक्सीन सभी जिलों में पहुंचने का दावा पशुपालन विभाग ने किया है। ब्लॉक के पशु अस्पताल में ग्राम वार भेड़ और बकरी का रजिस्टर बनाया जाएगा। ईयर टैगिंग के बाद भेड़-बकरी के टीकाकरण का रिकार्ड रजिस्टर में दर्ज किया जाएगा।

Related posts

बॉलीवुड को आगे आना होगा पर्यावरण जैसे गंभीर मुद्दे पर फिल्म बनाने के लिए – बॉलीवुड निदेशक पवन शर्मा

Mrtdarpan@gmail.com

शुभ योग स्टूडियो में फूलों से खेली होली , उत्साह के साथ मनाया होली का त्यौहार

Mrtdarpan@gmail.com

मेरठ के डीएम अनिल ढींंगरा व एमडीए के वीसी राजेश पांडेय का तबादला, ये होंगे मेरठ के नए जिलाधिकारी

Leave a Comment

Trulli
error: Content is protected !!
Open chat
Need help?
Hello
Welcome to Meerut Darpan News