मेरठ दर्पण
Breaking News
मेरठ

बौद्ध धर्म एवं भारतीय संस्कृति को पल्लवित कर रहा है सुभारती विश्वविद्यालय- डा.धम्मपिया

सुभारती विश्वविद्यालय एवं अंतर्राष्ट्रीय बौद्ध परिसंघ के मध्य हुआ द्विपक्षीय समझौता ज्ञापन (एमओयू)

 

मेरठ। स्वामी विवेकानन्द सुभारती विश्वविद्यालय के सुभारती स्कूल ऑफ बुद्धिस्ट स्टडीज के ध्यान केन्द्र में अंतर्राष्ट्रीय बौद्ध परिसंघ एवं सुभारती विश्वविद्यालय के मध्य अनुसंधान को प्रोत्साहन देने के उद्देश्य से समझौता ज्ञापन (एमओयू) कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य अतिथि अंतर्राष्ट्रीय बौद्ध परिसंघ के महासचिव परम पूज्य डा. धम्मपिया एवं अंतर्राष्ट्रीय बौद्ध परिसंघ के महानिदेशक माननीय श्री शक्ति सिन्हा, विश्वविद्यालय के कुलपति ब्रिगेडियर डा.वी.पी.सिंह, मुख्य कार्यकारी अधिकारी डा. शल्या राज, सुभारती स्कूल ऑफ बुद्धिस्ट स्टडीज के सलाहकार डा. हिरो हितो, गुणवत्ता नियंत्रण के अध्यक्ष डा.एन.के.आहूजा, फाईन आर्ट कॉलिज प्राचार्य डा. पिन्टू मिश्रा, कुलसचिव डा. डी.के. सक्सेना ने संयुक्त रूप से तथागत गौतम बुद्ध की प्रतिमा के समक्ष दीप प्रज्जवलित करके किया। इसके बाद बौद्ध विद्वान डा. चन्द्रर्कीति भदन्त द्वारा मंगलाचरण वंदना प्रस्तुत करके कार्यक्रम का विधिवत शुभारंभ किया गया।

मुख्य अतिथि अंतर्राष्ट्रीय बौद्ध परिसंघ के महासचिव परम पूज्य डा. धम्मपिया ने कहा कि इतिहास को संकलित करके ही अपनी नई पीढ़ी का ज्ञान बढ़ाया जा सकता है और जिस प्रकार सुभारती विश्वविद्यालय द्वारा बौद्ध धर्म एवं भारतीय संस्कृति को संरक्षित करते हेतु उत्कर्ष कार्य किये जा रहे वह सराहनीय है। उन्होंने बौद्ध परिसंघ एवं सुभारती विश्वविद्यालय के मध्य समझौता ज्ञापन होने पर हर्ष प्रकट करते हुए कहा यह समझौता दोनों संस्थाओं के मध्य परस्पर सहयोग एवं अनुसंधान संबंधों के प्रोत्साहन हेतु किया गया है। इससे शिक्षा के क्षेत्र में सर्वांगीण विकास होगा। उन्होंने सुभारती विश्वविद्यालय में स्थापित तथागत बुद्ध शोध पीठ के उत्थान हेतु भी अंतर्राष्ट्रीय बौद्ध परिसंघ की ओर से सहयोग देने की भी बात कहीं।

अतिविशिष्ट अतिथि अंतर्राष्ट्रीय बौद्ध परिसंघ के महानिदेशक माननीय श्री शक्ति सिन्हा ने हर्ष प्रकट करते हुए कहा कि सुभारती विश्वविद्यालय ने महापुरूषों के बलिदानों को अपने विद्यार्थियों में रोपित करने का ऐतिहासिक उत्कर्ष कार्य किया है इसके लिये विश्वविद्यालय के संस्थापक डा. अतुल कृष्ण बौद्ध विशेष बधाई के पात्र है। उन्होंने कहा कि द्विपक्षीय (एमओयू) के द्वारा अनुसंधान को गति मिलेगी जो विद्यार्थियों के विकास हेतु सहयोगी साबित होगी।

कुलपति ब्रिगेडियर डा.वी.पी.सिंह ने कहा कि समझौता ज्ञापन द्वारा अनुसंधान सहित शिक्षा को सर्वसुलभ बनाने के प्रयास किये जाएंगे। उन्हांने बताया कि सुभारती विश्वविद्यालय शिक्षा,सेवा, संस्कार एवं राष्ट्रीयता के मार्ग पर चलकर अपने विद्यार्थियों का ज्ञान वर्धन कर रहा है। उन्होंने कार्यक्रम में आएं सभी अतिथियों का स्वागत करते हुए समझौता ज्ञापन होने पर सभी को बधाई दी।

मुख्य कार्यकारी अधिकारी डा. शल्या राज ने धन्यवाद ज्ञापित करते हुए कहा कि सुभारती विश्वविद्यालय भारतीय सांस्कृतिक धरोहर को संरक्षित कर रहा है और विश्वविद्यालय अनुसंधान के क्षेत्र में तेजी से कार्य करके विद्यार्थियों को ज्ञानवान बना रहा है। उन्होंने समझौता ज्ञापन होने पर अंतर्राष्ट्रीय बौद्ध परिसंघ को बधाई देते हुए सभी को मंगलकामनाएं दी।
कार्यक्रम में ललित कला विभाग की अध्यक्ष प्रो. डॉ. पूजा गुप्ता की पुस्तक ”विश्व की महान कलाकृतियाँ : एक परिचय” पुस्तक का विमोचन भी अतिथियों द्वारा किया गया। पुस्तक की लेखिका डा. पूजा गुप्ता ने बताया कि पुस्तक की विषय सामग्री एवं चित्र इनके विषय के अधिकारी विद्वानों के ग्रन्थों एवं लेखों पर आधारित है। इसके संकलन में अधिक से अधिक देशों की कलाकृतियों में चित्र, मूर्तियाँ, गिरजाघर, मन्दिर, मकबरे, भवन तथा अन्य स्मारकों आदि का सचित्र परिचय दिया गया है।

मंच का संचालन पत्रकारिता संकाय के प्राचार्य डा. नीरज कर्ण सिंह एवं पल्लवी त्यागी ने किया।
कार्यक्रम में भदन्त डा. चन्द्रकीर्ति, भदन्त डा. राकेश आनंद, डा. नीलिमा चौहान, डा. हरीश कुमार, डा. भावना ग्रोवर, डा. तुष्टि शर्मा, डा. रागिनी श्रीवास्तव, डा. सीमा शर्मा, यशपाल, सुष्मा श्री, शुभम कुमार, रविन्द्र नाथ शर्मा, समीर सिंह, संजय जुगरान, प्रवीण शर्मा, सौरभ, नितिन, अजय, संजय आदि उपस्थित रहे।

Related posts

जनपद मेरठ में 38 स्टाम्प विक्रेताओं को बनाया गया ए.सी.सी.-उप आयुक्त स्टाम्प

सावन कन्नौजिया को एशिया द्वीप का ‘अर्थ डे हीरो’ अवार्ड से नई दिल्ली में किया गया सम्मानित

Ankit Gupta

शुभ योग में योग के साथ साथ शरीर को स्वस्थ रखने के लिए प्राकर्तिक से जुड़े हुए अनेक उपचार

Mrtdarpan@gmail.com

Leave a Comment

Trulli
error: Content is protected !!
Open chat
Need help?
Hello
Welcome to Meerut Darpan News