मेरठ दर्पण
Breaking News
दिल्ली

सुप्रीम कोर्ट की केंद्र को फटकार,”तीन कानूनों पर आप फैसला लेंगे या हमको लगानी होगी रोक”

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने कृषि कानून को लेकर आज केंद्र सरकार को जमकर फटकार लगाई। किसान आंदोलन के समाधान को लेकर अब तक हुई बातचीत में प्रगति न होने पर चिंता जताते हुए केंद्र से पूछा कि क्यों न तीनों कानूनों पर रोक लगा दी जाये?मुख्य न्यायाधीश शरद अरविंद बोबडे, न्यायमूर्ति ए एस बोपन्ना और न्यायमूर्ति वी रमासुब्रमण्यम की खंडपीठ ने सुनवाई के दौरान तल्ख टिप्पणी करते हुए कहा कि क्यों न तीनों कानूनों पर उस वक्त तक रोक लगा दी जाये, जब तक कोर्ट द्वारा गठित समिति इस मामले पर विचार न कर ले और अपनी रिपोर्ट न सौंप दे। हालांकि एटर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने कानूनों पर रोक की कोर्ट की सलाह का कड़ा विरोध किया। जज बोबडे ने पूछा, “आप हमें बतायें कि क्या आप किसान कानूनों पर रोक लगाते हैं या हम लगायें। इन कानूनों को स्थगित कीजिए। इसमें क्या मसला है? हम इसे आसानी से रोक लगाने के पक्ष में नहीं हैं, लेकिन हम कहना चाहते हैं कि कानून को फिलहाल लागू न करें।” कोर्ट ने कहा कि कुछ किसानों ने आत्महत्या कर ली है। बूढ़े बुजुर्ग और महिलाएं आंदोलन का हिस्सा बन रहे हैं। आखिर हो क्या रहा है? आज तक एक भी याचिका ऐसी दायर नहीं हुई है। जिसमें कहा गया हो कि कृषि कानून अच्छे हैं।

सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस ने केंद्र सरकार और किसानों के बीच बातचीत पर कोई प्रगति नहीं होने पर चिंता जताते हुए कहा कि किसान संगठनों और सरकार के बीच आठ दौर की बातचीत हो चुकी है, लेकिन कोई प्रगति नहीं हुई है, जबकि अगली बैठक 15 जनवरी के लिए निर्धारित है। लंबी बहस के बाद एटर्नी जनरल ने हड़बड़ी में कोई आदेश पारित न करने खंडपीठ से अनुरोध किया, लेकिन जज बोबडे ने नाराजगी जताते हुए कहा, “मिस्टर एटर्नी जनरल आप धैर्य को लेकर हमें लेक्चर न दें। हमें जल्दबाजी में क्यों न रोक लगानी चाहिए।” जज बोबडे ने सुनवाई पूरी करते हुए कहा कि वह आज या कल मामले में अपना आदेश जारी करेंगे। संभव है आज भी आंशिक आदेश जारी हो और कल पूरा आदेश।

अदालत में सुनवाई के दौरान चीफ जस्टिस ने कहा कि हम आंदोलन को खत्म नहीं करना चाह रहे हैं, आप इसे जारी रख सकते हैं। हम ये जानना चाहते हैं कि अगर कानून रुक जाता है, तो क्या आप आंदोलन की जगह बदलेंगे जब तक रिपोर्ट ना आए? अगर कुछ भी गलत होता है, तो हम सभी उसके जिम्मेदार होंगे, अगर किसान विरोध कर रहे हैं, तो हम चाहते हैं कि कमेटी उसका समाधान करे, हम किसी का खून अपने हाथ पर नहीं लेना चाहते हैं, लेकिन हम किसी को भी प्रदर्शन करने से मना नहीं कर सकते हैं।

Related posts

योगा दिवस पर बढ़ेगी कोरोना वैक्सीनेशन की रफ्तार, कल देशभर में 50 लाख टीकाकरण का लक्ष्य

मध्यप्रदेश में नाइट कर्फ्यू का ऐलान

मुरादनगर हादसा- फरार ठेकेदार पर इनाम धोषित

Leave a Comment

Trulli
error: Content is protected !!
Open chat
Need help?
Hello
Welcome to Meerut Darpan News