मेरठ दर्पण
Breaking News
मेरठ

नेताजी सुभाष चन्द्र बोस के सपनों को साकार करने का संकल्प लें देशवासी – डा. अतुल कृष्ण बौद्ध

गौरव व उल्लास का दिन है 21 अक्टूबर- मुख्य अतिथि स्तुति नारायण कक्कड

आजाद हिन्द फौज के ध्वज को सलामी देकर सुभारती विश्वविद्यालय में धूमधाम से मनाया गया अखण्ड भारत का 77 वां स्वतन्त्रता दिवस एवं सुभारती विश्वविद्यालय का वार्षिकोत्सव।

ई-न्यूज लेटर ‘‘सुभारती पल्स‘‘ का हुआ लोकार्पण
मेरठ दर्पण मेरठ- स्वामी विवेकानन्द सुभारती विश्वविद्यालय में भारत को अखण्ड बनाने के संकल्प के साथ एवं देशभक्ति की भावना से ओत प्रोत होकर हुआ। हर ओर जोश जज़्बा व देशभक्ति का जुनून नज़र आया। मांगल्या प्रेक्षागृह परिसर में मुख्य अतिथि पूर्व आईएएस एवं सुभारती विश्वविद्यालय की कुलाधिपति  स्तुति नारायण कक्कड ने आज़ाद हिन्द फौज का ध्वजारोहण किया। इस दौरान सामूहिक आजाद हिन्द गान हुआ एवं एन.सी.सी बटालियन ने ध्वज को सलामी दी।
कार्यक्रम में कोराना की तमाम सावधानियों का विशेष रूप से पालन किया गया जिसमें शारीरिक दूरी, मास्क व सेनिटाइजर का प्रयोग हुआ एवं मांगल्या प्रेक्षागृह में मात्र 100 लोग ही उपस्थित रहें। इसके अलावा समस्त कार्यक्रम का सीधा प्रसारण सुभारती टीवी चैनल, यूट्यूब एवं फेसबुक पर हुआ जिसे लाखों की संख्या में लोगो ने देखकर जय हिन्द के उद्घोष लगाए।
मुख्य अतिथि, कुलाधिपति स्तुति नारायण कक्कड ने कुलपति ब्रिगेडियर डा.वी.पी सिंह, सुभारती विश्वविद्यालय के संस्थापक डा. अतुल कृष्ण बौद्ध के साथ दीप प्रज्जवलन करके कार्यक्रम का शुभारम्भ किया एवं बौद्ध विद्वान भंते डा. चन्द्रर्कीति ने मंगलाचरण वंदना प्रस्तुत की।
स्वागत सम्बोधन में कुलपति ब्रिगेडियर डा.वी.पी.सिंह ने कार्यक्रम में उपस्थित अतिथियों का स्वागत करते हुए सभी को अखण्ड भारत के स्वतन्त्रता दिवस की शुभकामनाएं दीं। उन्होंने कहा कि सुभारती विश्वविद्यालय पूरे विश्व में भारत की प्राचीन संस्कृति एवं राष्ट्रीयता का प्रतीक बन चुका है और भविष्य में विश्वविद्यालय का यही प्रयास रहेगा कि सभी विद्यार्थियों में शिक्षा के साथ सेवा एवं संस्कारों व नैतिक मूल्यों को रोपित करके व नेताजी सुभाष चन्द्र बोस के द्वारा अखण्ड भारत को बनाने हेतु किये गये संघर्षों से प्रेरणा दिलाई जाए।
सुभारती विश्वविद्यालय के संस्थापक डा. अतुल कृष्ण बौद्ध ने जय हिन्द का उद्घोष लगा कर अपना उद्बोधन आरम्भ किया। उन्होंने कहा कि 21 अक्टूबर के दिन को सुभारती विश्वविद्यालय अखंड भारत के स्वतन्त्रता दिवस के रूप में हमेशा से मनाता आ रहा है। इस दिन को सुभारती के वार्षिकोत्सव के रूप में भी मनाया जाता है। उन्होंने कहा कि आज के दिन को अधिक हर्षोल्लास एवं सम्मान के साथ मनाने की आवश्यकता इसलिए है क्योंकि आज ही के दिन वर्ष 1943 में सिंगापुर में नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने अखण्ड संपूर्ण भारतवर्ष को आजाद घोषित किया। उन्होंने कहा कि युवाओं को इतिहास की सच्चाई से रूबरू कराने का समय आ गया है ताकि जिन महापुरूषों ने हमारे देश के लिए अपने प्राणों की आहूति दी है उन सभी महापुरूषों को नमन करके उनसे हमारी नई पीढ़ियां प्रेरणा ले सकें। उन्होंने कहा कि 15 अगस्त को संकल्प एवं प्रार्थना दिवस के रूप में घोषित किया जाना चाहिए ताकि उस दिन विखण्डित हुए भारत को पुनः जोड़ने का संकल्प लिया जाए एवं विभाजन के समय मारे गए लाखों देशवासियों की आत्मा की शान्ति के लिए प्रार्थना की जाए। उन्होंने आजाद हिंद फौज के द्वारा भारत को आजाद घोषित करने के समय की मुद्रा को दिखाया उस समय के डाक टिकट, न्यायालय, मंत्री परिषद, बैंक, सेना के अधिकारियों सहित महत्वपूर्ण जानकारी तत्कालीन वास्तविक चित्रों के माध्यम से उनके बारे में बताकर सभी का ज्ञान वर्धन किया।
उन्होंने भारत सरकार से विशेष आग्रह करते हुए कहा कि नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की  मृत्यु की सच्चाई को उजागर करने हेतु प्रयास किये जाए। डीएनए टेस्ट से यह साबित हो सकता है कि जापान में स्थित रिंको जी मंदिर में उनकी अस्थियाँ हैं अथवा नहीं। यदि वो अस्थियाँ उन्हीं की हैं तो उनको भारत लाकर नेताजी की याद में भव्य स्मारक का निर्माण कराया जाए। यदि वे अस्थ्यिँ उनकी नहीं है तो भारत की जनता को यह जानने क अधिकार है कि नेताजी का क्या हुआ? उन्होंने अंत में भारत को अखण्ड राष्ट्र बनाने हेतु संयुक्त राष्ट्र ऑफ साऊथ एशिया के निमार्ण का सूत्र दिया जिसमें प्रेम, करूणा एवं मैत्री के भाव से भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश, नेपाल, भूटान, श्रीलंका आदि सब एक होकर विश्व में ऊर्जावान शक्ति के रूप में उभरेंगे। कार्यक्रम में उपस्थित अतिथियों एवं ऑन लाइन जुड़े व्यक्तियों ने जय हिन्द के उद्घोषों के साथ संस्थापक डा. अतुल कृष्ण बौद्ध का अभिनन्दन किया।
मुख्य अतिथि, कुलाधिपति  स्तुति नारायण कक्कड ने समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि इतिहास की सच्चाई को जिस प्रकार सुभारती विश्वविद्यालय अपने निजी प्रयासों से देश के सामने ला रहा है वह बहुत ही सराहनीय है। उन्होंने सुभारती विश्वविद्यालय के संस्थापक डा. अतुल कृष्ण बौद्ध को भव्य समारोह आयोजित करने के लिए बधाई देते हुए कहा कि कोरोना काल की विषम परिस्थितियों में भी जिस प्रकार इस कार्यक्रम का आयोजन किया गया है वह विश्वविद्यालय की राष्ट्रीयता की भावना प्रदर्शित कर रहा है। उन्होंने कहा कि सुभारती विश्वविद्यालय देश भक्ति की पाठशाला है और यहां के कण कण में मॉ भारती के प्रति आदर व देश प्रेम समाया हुआ है। उन्होंने कहा कि आज का दिन इतिहास का सबसे महत्वपूर्ण दिन है और जिस तरह सुभारती विश्वविद्यालय ने नेताजी के सपनों को साकार करने का काम किया है वह पूरे देश के लिये प्रेरणादायी है। उन्होंने 21 अक्टूबर को उत्साह के साथ मनाने पर हर्ष प्रकट करते हुए कहा कि हमारी नई पीढ़ियों को इतिहास की जो मूल सच्चाई है उसको जानने के लिए प्रयास करने होंगे। असंख्य महापुरूषों ने अपने रक्त से देश को सींच कर हमें आजादी दिलाई है। हमारा कर्तव्य है कि शहीदों को नमन करते हुए राष्ट्र हित में अपना योगदान दें।
मुख्य कार्यकारी अधिकारी डा.शल्या राज ने कहा कि सुभारती विश्वविद्यालय देश को स्वतन्त्र कराने में अपना बलिदान देने वाले महापुरूषों के आदर्शें पर चलकर देश को सशक्त बनाने का प्रयास कर रहा है। उन्होंने कहा कि 21 अक्टूबर का दिन गौरवान्ति होने का दिन है और आज के दिन देश के युवाओं को इतिहास की सही सच्चाई से अवगत होकर नेताजी सुभाष चन्द्र बोस के अखण्ड भारत को पुनः बसाने का संकल्प लेना चाहिए।
कार्यक्रम में नेताजी सुभाष चन्द्र बोस के पड़पौत्र श्री चन्द्र बोस ने वीडियों संदेश के माध्यम से सभी को अखण्ड भारत के स्वतन्त्रता दिवस की शुभकामनाएं दीं। उन्हांने हर्ष प्रकट करते हुए कहा कि जिस प्रकार सुभारती विश्वविद्यालय नेताजी के सपनों के भारत को साकार करने हेतु प्रतिबद्ध है वह बड़े गौरव का विषय है और इसी भावना के साथ सम्पूर्ण देशवासियों को इतिहास की सच्चाई से अवगत होने हेतु सुभारती विश्वविद्यालय से प्रेरणा लेनी चाहिएा।
धन्यवाद ज्ञापन प्रतिकुलपति डा. विजय वधावन ने किया। उन्होंने कहा कि सुभारती विश्वविद्यालय में शिक्षा, सेवा, संस्कार एवं राष्ट्रीयता की भावना के साथ छात्र छात्राओं को अपने देश की सेवा करने एवं विश्व पटल पर भारत के नाम को रोशन करने की प्रेरणा दिलाई जा रही है। उन्होंने कार्यक्रम में भौतिक रूप से एवं ऑन लाइन उपस्थित अतिथियों को धन्यवाद दिया।
मुख्य अतिथि, श्रीमति स्तुति नारायण कक्कड ने संस्थापक डा. अतुल कृष्ण बौद्ध, कुलपति डा. वी.पी. सिंह एवं प्रतिकुलपति डा. विजय वधावन के साथ मिलकर सुभारती ई-न्यूज लेटर ‘‘सुभारती पल्स‘‘ का भी लोकार्पण किया। इसके अलावा प्रश्नोतरी प्रतियोगिता के विजेताओं के नाम भी घोषित किये गये। साथ ही फाईन आर्ट कॉलिज के विद्यार्थी नितिन व किरण द्वारा सुभारती गान प्रस्तुत किया गया। समारोह में पूर्व वर्ष में प्रदर्शित सांस्कृतिक कार्यक्रम एवं बोस नाटक का वीडियो प्रस्तुतीकरण किया गया।
शाम ठीक 6 बजे ध्वज अवरोहण कार्यक्रम हुआ जिसमें बीटिंग दी रिट्रिट सेरेमनी द्वारा ध्वज को सुरक्षित किया गया एवं वंदेमातरम गायन के साथ समारोह का समापन हुआ।
मंच का अत्यन्त सफल संचालन पत्रकारिता संकाय के प्राचार्य डा.नीरज कर्ण सिंह एवं संस्कृति विभागाध्यक्ष डा. विवेक कुमार ने किया।
इनकी रही विशेष उपस्थिति सुभारती ट्रस्ट के पूर्व ट्रस्टी श्री आलोक भटनागर, सुभारती सेवा संस्था के अध्यक्ष श्री ए.के. कौशिक, सुभारती ट्रस्ट के वर्तमान अध्यक्ष डा. हिरो हितो, प्रति कुलपति डा. विजय वधावन, कुलसचिव डीके सक्सेना, अतिरिक्त कुलसचिव सैयद ज़फ़र हुसैन, सुभारती मेडिकल कॉलिज के प्राचार्य डा.ए.के श्रीवास्तव, डा. वैभव गौयल भारतीय, डा. मनोज कुमार त्रिपाठी, डा. पिंटू मिश्रा, डा. भावना ग्रोवर, डा. पूजा गुप्ता, विधि खंडेलवाल, डा. आर पी सिंह, डा. मनोज कपिल, डा. गीता परबन्दा, डा. अभय एम शंकरगौड़ा, डा. नीरज कर्ण सिंह, डा. विवेक कुमार, डा. संदीप कुमार, असिस्टेंट डायरेक्टर पीपीडी ई.आकाश भटनागर, एडमिशन सैल प्रभारी तरूण काम्बोज, सीटीओ विवेक तिवारी, प्रशासनिक अधिकारी हर्षवर्धन कौशिक, मीडिया प्रभारी अनम शेरवानी, धीरज बजाज, नरेश कुमार, राजकुमार सागर सहित स्वतन्त्रता दिवस समारोह समिति एवं सुभारती परिवार के सभी सदस्यों का विशेष सहयोग रहा।

Related posts

व्यापारी कल्याण बोर्ड के चेयरमैन  रविकांत गर्ग पहुचे मेरठ

केंद्रीय बजट 2022 से विभिन्न हितधारकों की अपेक्षाओं” पर उपयोगी चर्चा

20 सितम्बर को 19757 परीक्षार्थी देंगे लोक सेवा आयोग की समीक्षा अधिकारी की परीक्षा-अपर जिलाधिकारी नगर

Leave a Comment

Trulli
error: Content is protected !!
Open chat
Need help?
Hello
Welcome to Meerut Darpan News