मेरठ दर्पण
Breaking News
विशेष

Beauty Tips: मेकअप खराब कर सकता है चेहरे की खूबसूरती, इंफेक्शन से बचने के लिए अपनाएं ये टिप्स

यह कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि आज के समय में मेकअप भी जीवन की एक आवश्यकता है, लेकिन कई बार हम मेकअप उत्पादों का उपयोग लंबे समय तक करते हैं। अगर आप भी ऐसा कर रहे हैं तो सावधान हो जाइए। मेकअप प्रोडक्ट्स का ध्यान रखना बहुत जरूरी है। अगर ठीक से देखभाल नहीं की गई तो आपका लुक और पैसा दोनों बर्बाद हो सकते हैं। ऐसे में हमारे आसपास कई ऐसे लोग हैं, जो मेकअप की शेल्फ लाइफ को देखे बिना उसका इस्तेमाल करते हैं, जिससे त्वचा पर हानिकारक प्रभाव पड़ सकता है।

ब्‍यूटी एक्‍सपर्ट शहनाज हुसैन बताती हैं कि मेकअप प्रोडक्‍ट्स की देखभाल कैसे करनी चाहिए और कौन से मेकअप प्रोडक्‍ट को कितनी देर तक इस्‍तेमाल करना चाहिए।
इंफेक्शन से बचना चाहिए
मेकअप में इस्तेमाल होने वाले सभी कॉस्मेटिक्स की शेल्फ लाइफ होती है। संक्रमण से बचने के लिए उत्पादों को उनकी शेल्फ लाइफ से अधिक उपयोग नहीं किया जाना चाहिए। साथ ही आंखों के मेकअप में इस्तेमाल होने वाले कॉस्मेटिक्स अगर आप जरा सी भी लापरवाही करते हैं तो यह भारी पड़ सकता है।
इस समय के बाद मेकअप उत्पादों को बदलें
जब आयुर्वेदिक उत्पादों की बात आती है, तो त्वचा और बालों के लिए उपयोग किए जाने वाले उत्पादों की आम तौर पर उत्पादन की तारीख से 3 साल की शेल्फ लाइफ होती है। जहां केमिकल बेस्ड ब्यूटी प्रोडक्ट्स की शेल्फ लाइफ 2 साल होती है, वहीं कुछ मेकअप प्रोडक्ट्स की शेल्फ लाइफ बहुत कम होती है।
मेकअप उत्पादों की देखभाल है जरूरी
जैसा कि हम आमतौर पर देखते हैं, बाजार में कई मेकअप उत्पादों की समाप्ति तिथि नहीं होती है, इसलिए जब मेकअप बदलने का समय आता है, तो आपको यह सोचना होगा कि इसका उपयोग करना है या नहीं।
अगर रंग या खुशबू में कोई बदलाव हो तो मेकअप प्रोडक्ट को बदल दें।
मेकअप उत्पाद न केवल धूल के संपर्क में आते हैं, बल्कि उनके ऐप्लिकेटर द्वारा त्वचा के प्राकृतिक तेलों के साथ भी मिलाए जाते हैं। तो जिस तरह से आप अपने सौंदर्य प्रसाधनों को स्टोर करते हैं, वह आपके जीवन को प्रभावित कर सकता है।
दूसरी ओर उत्पाद का रंग और सुगंध भी जरूरी है। अगर लिपस्टिक से बदबू आती है तो इसका मतलब है कि लिपस्टिक से तेल अलग हो गया है। अगर आपका काजल सूखा या चिकना है, तो काजल को बदल देना चाहिए। सिर्फ कॉस्मेटिक्स ही नहीं बल्कि एप्लीकेटर की साफ-सफाई का भी ध्यान रखना बहुत जरूरी है।
मेकअप बदलने का समय उत्पाद के सेल्फ-लाइफ फाउंडेशन पर निर्भर करता है:
वॉटर-बेस्ड फाउंडेशन को एक साल के बाद बदलें, जबकि क्रीम-बेस्ड फाउंडेशन अधिक समय तक, 18 महीने तक चलता है।
पाउडर: ढीला पाउडर दो से तीन साल तक चल सकता है, लेकिन कॉम्पैक्ट पाउडर दो साल तक चलता है और कभी-कभी इससे पहले सूख जाता है। यदि कॉम्पैक्ट पाउडर फट जाता है, तो उसे बदलने का समय आ गया है।
ब्लशर और आई शैडो की शेल्फ लाइफ समान होती है: पाउडर ब्लशर और पाउडर शैडो दो साल तक चलते हैं, जबकि क्रीम ब्लशर और शैडो लगभग 18 महीने तक चलते हैं। अगर आपको लगे कि ब्लशर का कलर या शेड बदल गया है तो उसे तुरंत बदल लें।
काजल तीन से छह महीने तक रहता है। रोल-ऑन मस्कारा के लिए एप्लिकेटर ब्रश की पंपिंग प्रक्रिया उन्हें बैक्टीरिया के प्रति अधिक संवेदनशील बनाती है।
आईलाइनर की सेल्फ लाइफ दो साल होती है। अगर आप आई पेंसिल का इस्तेमाल करते हैं तो इसे नियमित रूप से तेज करें। यह आपको प्रदूषण से बचाता है।
तो लिपस्टिक भी दो साल तक चलती है, लेकिन लिप ग्लॉस 12 से 18 महीने तक रहता है। अगर किसी उत्पाद के रंग या सुगंध में कोई बदलाव आता है तो उसे तुरंत बदल दें।
अगर आपको लगता है कि आपका मस्कारा यूज करने के बाद सूख गया है, तो उसे सॉफ्ट करने के लिए उसमें पानी या क्रीम न मिलाएं। आंखों में संक्रमण होने पर कॉस्मेटिक्स का इस्तेमाल बंद कर दें। साथ ही अपना आईलाइनर, काजल और आई पेंसिल भी बदल लें, भले ही उनकी शेल्फ लाइफ बची हो, नहीं तो दोबारा आंखों में इंफेक्शन हो सकता है।
मेकअप लगाने से पहले हमेशा हाथ धोएं, क्योंकि हम अक्सर लगाने या ब्लेंड करने के लिए उंगलियों का इस्तेमाल करते हैं। मेकअप कॉस्मेटिक्स दूसरों के साथ शेयर करने से बचें।
सप्ताह में एक बार मेकअप ब्रश और ऐप्लिकेटर को गर्म, साबुन वाले पानी में धोएं। इसके बाद इसे अच्छी तरह से धोकर इस्तेमाल करने के बाद ही दोबारा सुखा लें। मेकअप ब्रश को हर तीन महीने में बदलें।

Related posts

कोरोना काल में किया पार्क का जीणोद्धार

Royal Enfield लवर्स के लिए बड़ी खबर, बहुत ही कम दाम में मिल रहा है ये शानदार मॉडल

Ankit Gupta

जिलाधिकारी ने निर्धारित की आलू भंडारण की दरे

Leave a Comment

Trulli
error: Content is protected !!
Open chat
Need help?
Hello
Welcome to Meerut Darpan News