मेरठ दर्पण
Breaking News
स्वास्थ्य

थायराइड की समस्या: थायराइड की विभिन्न बीमारियों के लिए रामबाण हैं ये तेल!

थायरॉयड ग्रंथि गर्दन में एक छोटा सा अंग है। इससे निकलने वाले हार्मोन शरीर को कई तरह के काम करने में मदद करते हैं। इसलिए अगर आपका थायराइड ठीक से काम नहीं कर रहा है तो इसका बुरा असर आपके पूरे शरीर पर पड़ेगा।

थायराइड ग्रंथि हार्मोन रिलीज करती है जो शरीर के कई महत्वपूर्ण कार्यों में मदद करती है। इसलिए थायराइड ग्रंथि के स्वास्थ्य को बनाए रखना बहुत जरूरी है। थायरॉयड ग्रंथि गर्दन में एक छोटा सा अंग है। इससे निकलने वाले हार्मोन शरीर को कई तरह के काम करने में मदद करते हैं। इसलिए अगर आपका थायरॉइड ठीक से काम नहीं कर रहा है, तो इसका बुरा असर आपके पूरे शरीर पर पड़ेगा। लेकिन अगर थायराइड ग्रंथि सही तरीके से काम नहीं कर रही है तो यह कई बीमारियों को जन्म दे सकती है।
थायरॉयड ग्रंथि के स्वास्थ्य को कैसे बनाए रखें?
थायराइड ग्रंथि महिला और पुरुष दोनों के लिए खतरनाक होती है। थायराइड में असंतुलन होने पर आयोडीन की कमी, ऑटोइम्यून डिजीज, जेनेटिक डिसऑर्डर, डायबिटीज समेत कई बीमारियां हो जाती हैं।
क्लीवलैंड क्लिनिक के अनुसार थायराइड रोग कई प्रकार के होते हैं। इसमें मुख्य रूप से हाइपरथायरायडिज्म, हाइपोथायरायडिज्म, थायरॉयडिटिस और हाशिमोटो के थायरॉयडिटिस के प्रकार शामिल हैं।
इन सभी प्रकार के थायराइड रोगों के लक्षण एक दूसरे से बहुत अलग नहीं होते हैं। इसलिए घर पर ही अपनी थायराइड की समस्या को कम करने के लिए एक अच्छी जीवनशैली और आहार का होना बहुत जरूरी है।
इनमें से कुछ तेलों में थायराइड की समस्या को कम करने की ताकत होती है। ये तेल सभी प्रकार के थायरॉइड विकारों के लिए फायदेमंद होते हैं।
थायराइड रोग के लक्षण क्या हैं?
थायराइड की बीमारी से घबराहट, चिड़चिड़ापन, थकान, नींद की कमी, वजन कम होना, वजन बढ़ना, मांसपेशियों में कमजोरी, अनियमित या भारी मासिक धर्म, आंखों की समस्या, भूलने की बीमारी, सूखे और मोटे बालों की समस्या, कर्कश आवाज, ठंड या गर्मी असहिष्णुता हो सकती है।
थायरॉइड से राहत के लिए लेमनग्रास ऑयल
लेमनग्रास ऑयल में ताज़ी सुगंध और जलनरोधी गुण होते हैं। यह थायराइड असंतुलन से संबंधित एलर्जी या सूजन को दूर करने में मदद करता है। थायराइड की समस्या, ग्रंथि में सूजन, सूजन होने पर लेमनग्रास का तेल गर्दन पर लगाएं।
थायराइड की समस्या के लिए लैवेंडर का तेल
लैवेंडर के तेल में एनाल्जेसिक और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं। चिंता दूर करता है। डिप्रेशन कम करता है। थायराइड असंतुलन वाले लोगों में यह एक सामान्य लक्षण है।
थायराइड की समस्या के लिए चंदन का तेल
चंदन का तेल लगाने से चिंता, पैनिक अटैक या ओवरएक्टिव थायराइड से संबंधित तनाव को दूर करने में मदद मिल सकती है। यह तेल हाइपोथायरायडिज्म के कारण बाल झड़ने की समस्या को कम करता है।
पेपरमिंट तेल
पेपरमिंट ऑयल खराब पाचन , कमजोर मेटाबॉलिज्म, मूड स्विंग्स, अंडरएक्टिव थायराइड से संबंधित लक्षणों को कम करता है । तेल को पानी में भाप बनाकर नाभि में लगाने से लाभ होता है।
काली मिर्च का तेल
काली मिर्च का तेल हाइपोथायरायडिज्म के कारण होने वाली थकान को रोकता है। यह सूजन, चिंता, अवसाद और शरीर के विषाक्त पदार्थों से लड़ता है। एसेंशियल ऑयल का भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

Related posts

देश के 5 मेडिकल कॉलेजों में खुलेगा खेल चिकित्सा विभाग, भोपाल का गांधी मेडिकल कॉलेज भी शामिल

Ankit Gupta

उत्तर प्रदेश स्वास्थ्य विभाग की इस वेबसाइट पर हॉस्पिटल में खाली और भरे बेड की मिलेगी जानकारी

Mrtdarpan@gmail.com

पिछले 24 घंटे में 86432 नए मामले सामने आए

Leave a Comment

Trulli
error: Content is protected !!
Open chat
Need help?
Hello
Welcome to Meerut Darpan News