मेरठ दर्पण
Breaking News
स्वास्थ्य

कई बीमारियों से निजात दिलाएगा जामुन प्रेगनेंसी में मूड स्विंग्स से मिलेगा छुटकारा,

कम ही लोगों को पता होगा कि जामुन को स्वाद के साथ-साथ सेहत के लिए भी काफी फायदेमंद माना जाता है. जामुन विटामिन सी, फाइबर और एंटीऑक्सीडेंट पॉलीफेनोल्स से भरपूर होते हैं जो कई बीमारियों से लड़ने में मदद करते हैं।

आहार विशेषज्ञ डॉ. कहती हैं, जामुन एक कम कैलोरी वाला भोजन है जो वजन नियंत्रण में मदद करता है और पाचन तंत्र के लिए बहुत फायदेमंद माना जाता है।
गर्भावस्था के दौरान नियमित रूप से जामुन खाएं
कभी-कभी गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को बार-बार मूड स्विंग्स का अनुभव होता है। अगर इस दौरान जामुन का सेवन किया जाए तो यह डिप्रेशन, मूड स्विंग्स और मूड डिसऑर्डर को दूर करने में मदद करता है। यह गर्भ में पल रहे बच्चे के विकास के लिए फायदेमंद होता है और बच्चे को न्यूरोलॉजिकल बर्थ डिफेक्ट जैसी समस्याओं से दूर रखता है।
गर्भावस्था के दौरान कई महिलाओं को कई स्वास्थ्य समस्याएं होती हैं, इसलिए अपने आहार में जामुन को शामिल करने से पहले हमेशा डॉक्टर से सलाह लें।
यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन (यूटीआई) से छुटकारा
महिलाओं को यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन बहुत जल्दी हो जाता है। डॉक्टर इससे उबरने के लिए क्रैनबेरी और ब्लूबेरी का जूस पीने की सलाह देते हैं। जामुन विभिन्न पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं। जो शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने और सूजन को कम करने में मदद करता है।
क्रैनबेरी में एंटी-कैंसर और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं। कॉपर, विटामिन सी और मैग्नीशियम से भरपूर क्रैनबेरी योनि की समस्याओं में फायदेमंद मानी जाती है।
जामुन से नहीं बढ़ेंगी कैंसर कोशिकाएं
रास्पबेरी में एलीजिक एसिड नामक पदार्थ होता है, जो कैंसर कोशिकाओं के विकास को रोकता है। जामुन विटामिन, आहार फाइबर, एंटीऑक्सिडेंट और खनिजों से भी भरपूर होते हैं।साथ ही जामुन में मौजूद पॉलीफेनोलिक मस्तिष्क से हानिकारक विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालता है, जिससे अल्जाइमर को रोका जा सकता है।
अगर आपको दिल की समस्या है, तो इन्हें अपने आहार में शामिल करें। ब्लूबेरी और शहतूत
ब्लूबेरी विटामिन सी, के और बी 6 से भरपूर होते हैं। इसके अलावा, जामुन फाइबर, पोटेशियम, पॉलीन्यूट्रिएंट्स और एंटी-ऑक्सीडेंट से भी भरपूर होते हैं। रोजाना इनका सेवन करने से लेवल कम हो जाता है। खराब कोलेस्ट्रॉल, जिससे दिल का दौरा पड़ने का खतरा बढ़ जाता है, कम हो जाता है और धमनियां ठीक से काम करती हैं।
अगर आपको दिल की बीमारी की समस्या है तो आप ब्लूबेरी के साथ शहतूत को भी अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं। जामुन फाइबर और विटामिन सी से भरपूर होते हैं। यह तनाव को कम करता है और कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रण में रखता है।
मधुमेह रोगियों के लिए एक सुपरफूड,
जामुन में चीनी नहीं होती है, इसलिए मधुमेह रोगी इन्हें अपने आहार में शामिल कर सकते हैं। ब्लूबेरी शरीर में इंसुलिन की मात्रा को बनाए रखता है, जिससे टाइप 2 डायबिटीज होने की संभावना कम हो जाती है।

Related posts

खाने के तुरंत बाद किन चीजों का सेवन करना होता है नुकसानदायक

Ankit Gupta

इन आदतों को अपनाकर कैविटीज से अपने दांतों को बचाए।

cradmin

क्या आप बहुत ज्यादा फल खा रहे हैं? इससे समस्याओं का खतरा बढ़ सकता है

cradmin

Leave a Comment

Trulli
error: Content is protected !!
Open chat
Need help?
Hello
Welcome to Meerut Darpan News