मेरठ दर्पण
Breaking News
व्यापार

नाम का तब तक न करें जिक्र…” : राजस्‍थान भ्रष्‍टाचार निरोधक ब्‍यूरो के आदेश पर विवाद

ये आदेश DG ACB का अतिरिक्त चार्ज लेते ही हेमंत प्रियदर्शी ने दिया है. DG ACB ने कहा कि जब तक कोर्ट में केस साबित नहीं हो जाता, तब तक गिरफ्तार लोगों के नाम उजागर नहीं किया जाए.
जयपुर: राजस्थान की भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (ACB) अब भ्रष्ट अधिकारियों-कर्मचारियों को ट्रैप करने के बाद उनका नाम और फोटो जारी नहीं करेगी. सिर्फ विभाग का नाम और पद की जानकारी सार्वजनिक की जाएगी. ये आदेश DG ACB का अतिरिक्त चार्ज लेते ही हेमंत प्रियदर्शी ने दिया है. DG ACB ने कहा कि जब तक कोर्ट में केस साबित नहीं हो जाता, तब तक गिरफ्तार लोगों के नाम उजागर नहीं किया जाए.
आदेश में यह कहा गया है कि न्यायालय से आरोप साबित नहीं होने तक रिश्वत लेने वाले लोगों का नाम और फोटो सार्वजनिक नहीं किया जाए. मीडिया को भी उनका नाम और फोटो नहीं दिया जाए. इस आदेश पर विवाद खड़ा हो गया है. लोगों का कहना है कि अगर आरोप साबित होने की बात है, तो यह तमाम अपराधों पर लागू होती है. फिर तो चोर, डकैत, मर्डर करने वाले और रेप करने वालों का नाम भी तब तक सार्वजनिक नहीं होना चाहिए, जब तक उन पर आरोप साबित नहीं हो जाता है.
एसीबी के अतिरिक्त महानिदेशक प्रथम व कार्यवाहक महानिदेशक हेमंत प्रियदर्शी की ओर से सभी एसीबी चौकी प्रभारी व यूनिट प्रभारी को इन आदेशों की पालना करने को कहा है.
इससे पहले ACB पूरी कार्रवाई की फोटोग्राफी के साथ वीडियोग्राफी कराती आई है. बाकायदा फुटेज और फोटो मीडिया को जारी भी करती थी. इसका मकसद यह होता था कि जिसे पकड़ा गया है, उसके कारनामे से अधिक से अधिक लोक वाकिफ हो सके. फोटो-वीडियो सामने आने के बाद ACB के प्रति आम जनता का विश्वास बढ़ता था.
धीरे-धीरे समय बदला और ACB के अधिकारियों ने कार्रवाई के बाद मौके पर मीडिया को बुलाना शुरू कर दिया. पूरी कार्रवाई मीडिया को दिखाई जाती थी, ताकि पूरी डिटेल के साथ रिपोर्ट आम लोगों के सामने आ सके.अब नए आदेश को लेकर सवाल खड़े होने लगे हैं.

Related posts

Small Business Idea: छोटा काम-बड़ी कमाई! घर बैठकर इस काम को करने से आपकी रोजाना होगी 1000 रुपये की बचत

Ankit Gupta

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने सोमवार से शुरू हो रहे संसद के मानसून सत्र में भाजपा नीत राजग सरकार को घेरने के लिए उठाए जाने वाले मुद्दों की पहचान करने के लिए गुरुवार को पार्टी के संसद रणनीति समूह की बैठक की अध्यक्षता की। लोकसभा सचिवालय द्वारा जारी की गई पुस्तिका, जिसमें दोनों सदनों के लिए “असंसदीय शब्द” सूचीबद्ध हैं, इस बीच, विपक्ष के हमले में स्टिंग जोड़ने के लिए तैयार है। बजट सत्र के दूसरे भाग में विपक्षी दलों के बीच समन्वय की कमी देखी गई। इस बार, कांग्रेस ने फ्लोर कोऑर्डिनेशन सुनिश्चित करने के लिए अन्य विपक्षी दलों तक पहुंचने का फैसला किया है। सत्र का समापन 13 अगस्त को होना है। गुरुवार को करीब एक घंटे तक चली बैठक में पार्टी ने महंगाई और ईंधन की कीमतों में वृद्धि, तीनों बलों में भर्ती के लिए अग्निपथ योजना, बढ़ती बेरोजगारी, देश के संघीय ढांचे पर हमला, आर्थिक स्थिति और अन्य मुद्दों को उठाने का फैसला किया. अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपये की स्थिर गिरावट, अल्पसंख्यकों के खिलाफ अत्याचार और अभद्र भाषा, सीबीआई और ईडी जैसी जांच एजेंसियों का दुरुपयोग और लद्दाख में एलएसी के साथ चीन के साथ जारी गतिरोध।

Ankit Gupta

टाटा ने ब्रिटेन के प्रमुख इस्पात संयंत्र को बंद करने से बचने के लिए 1.8 अरब डॉलर की सहायता मांगी:

Ankit Gupta

Leave a Comment

Trulli
error: Content is protected !!
Open chat
Need help?
Hello
Welcome to Meerut Darpan News