मेरठ दर्पण
Breaking News
मेरठस्वास्थ्य

कोरोना महामारी से हो रही मृत्यु दर में लाये कमी-जिलाधिकारी

मरीज के तीमारदारों व परिवारजनों को दें मरीज का हैल्थ अपडेट-के0 बालाजी

मरीज से फोन कर जाने उसका हाल, लें अस्पताल व फैसीलिटी का फीडबैक-के0 बालाजी

मेरठ –
जिलाधिकारी के0 बालाजी ने बचत भवन में कोरोना महामारी के प्रभावी नियंत्रण के संबंध में मुख्य चिकित्सा अधिकारी व अन्य चिकित्सा अधिकारियों के साथ बैठक की। जिलाधिकारी ने कंटेनमेंट जोन, काॅन्टेक्ट टेस्टिंग, बैड व ऑक्सिजन सिलेण्डर की उपलब्धता, डोर टू डोर सर्वे आदि की जानकारी ली। उन्होने कहा कि कोरोना महामारी के कारण हो रही मृत्यु दर में कमी लायी जाये। कंटेनमेंट जोन में बैरिकेडिंग की जाये व काॅन्टेक्ट टेस्टिंग को प्रभावी ढ़ग से किया जाये।
जिलाधिकारी ने कहा कि कोरोना धनात्मक मरीज मिलने के बाद बनाये गये कंटेनमेंट जोन में डोर-टू-डोर सर्वे अभियान प्रभावी ढ़ग से किया जाये तथा उसमें एक्टिव केस सर्च का कार्य 48 घंटे में पूर्ण किया जाये। उन्होने कहा कि प्राईवेट अस्पतालों में दिये जा रहे उपचार की समीक्षा की जाये तथा कहा कि प्राईवेट अस्पताल सरकार द्वारा जारी गाईडलाईन के अनुसार ही चार्ज करे यह सुनिष्चित किया जाये।
जिलाधिकारी के0 बालाजी ने जनपद में संचालित एल-1, एल-2 व एल-3 अस्पतालों की जानकारी ली तथा आईसीयू बैड व बैड की उपलब्धता की जानकारी ली तथा ऑक्सीजन सिलेण्डर की उपलब्धता की जानकारी ली। उन्होने कहा कि बैड व ऑक्सीजन सिलेण्डर की कमी नहीं होनी चाहिए। उन्होने कहा कि मरीजो से निरंतर संपर्क में रहा जाये तथा उनका फीडबैक लिया जाये साथ ही उनके तीमारदारों व परिवारजनों को मरीज का हैल्थ अपडेट दिया जाये।
जिलाधिकारी के0 बालाजी ने कहा कि इन्टीग्रेटेड कमाण्ड एंड कंट्रोल सेन्टर प्रभावी ढ़ग से कार्य करें यह सुनिष्चित किया जाये। उन्होने कहा कि कंट्रोल रूम से कोविड अस्पतालों में लगे सीसीटीवी कैमरों के माध्यम से वहां की निगरानी की जाये। उन्होने कहा कि मरीजो को अच्छा उपचार, भोजन व वातावरण मिले यह सुनिष्चित किया जाये।
मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा0 राजकुमार ने बताया कि जनपद में वर्तमान में करीब 800 कंटेनमेंट जोन है। उन्होने बताया कि किसी क्षेत्र में एक मरीज मिलने पर उसके आसपास के 100 मी0 के एरिया को कंटेनमेंट जोन बनाया जाता है तथा एक से अधिक मरीज मिलने पर 250 मी0 के एरिया को कंटेनमेंट जोन बनाया जाता है। उन्होने बताया कि कंटेनमेंट जोन में घर-घर सर्वे अभियान चलाया जाता है तथा 48 घंटे में एक्टिव केस सर्च करना होता है। उन्होने रैपिड रेस्पाॅन्स टीम आदि की जानकारी जिलाधिकारी को दी।
इस अवसर पर अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा0 पूजा शर्मा सहित अन्य अधिकारीगण उपस्थित रहे।

Related posts

वर्ल्ड कार फ्री डे पर सुभारती विश्वविद्यालय ने दिया पर्यावरण के संरक्षण का संदेश

भारत के लोगों को कश्मीर इश्यू को जानना बहुत महत्वपूर्ण है – संजीव त्रिपाठी

Ankit Gupta

द गुरुकुलम इंटरनेशनल स्कूल में मनाया गया शहीदी सप्ताह

Trulli
error: Content is protected !!
Open chat
Need help?
Hello
Welcome to Meerut Darpan News