मेरठ दर्पण
Breaking News
धार्मिक विशेष

मथुरा के पेड़े खाकर भूल जाएंगे हर मिठाई, जानें बनाने का तरीका

इस जन्माष्टमी आप मथुरा के पेड़े का प्रसाद खाना चाहते है. लेकिन आप मथुरा नहीं जा पा रहे हैं तो निराश न हो आप घर पर भी मथुरा के पेड़े बना सकते हैं.

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी (Krishna Janmashtami 2022) का त्यौहार बड़े धूमधाम से मनाया जा रहा है. इस दिन भक्त भगवान कृष्णा का व्रत रखते हैं और उनकी पूजा करते हैं. इस दिन लोग घर में तरह-तरह के पकवान और मिठाईयां बनाते हैं. कई लोगों को श्रीकृष्ण जन्मस्थान मथुरा (Mathura) की मिठाई बहुत पसंद आती है. लेकिन वह मथुरा नहीं जा पा रहे हैं तो उन्हें निराश होने की जरूरत नहीं है. इस आर्टिकल में हम आपको घर पर ही मथुरा के पेड़े बनाने का तरीका बता रहे हैं, जिससे आप आसानी से बना सकते हैं..

मथुरा के पेड़े बनाने के लिए सामग्री
खोया या मावा – 250 ग्राम
तगार (बूरा) – 200 ग्राम
घी – 2-3 बड़ी चम्मच
छोटी इलायची – 4 – 5 (छील कर कूट लीजिये)

मथुरा पेड़े की रेसिपी (Recipe)
स्टेप 1- पारम्परिक मथुरा के पेड़े देशी गाय के दूध से बनाए जाते है. इसे बनाने के लिये मावा और तगार की जरुरत होती है, मावा और तगार (दाने दार बूरा) आप बाजार से ला सकते हैं या फिर आप घर में भी मावा तैयार कर सकते हैं.
स्टेप 2- मावा को धीमी आंच पर भून लें. मावा को जितना अधिक भूनेंगे उतनी अच्छा पेड़ा बनेगा. मावा भूनते समय बीच बीच में थोड़ा थोड़ा दूध या घी डालते रहें. इससे मावा जलेगा नहीं और मावा का कलर हल्का ब्राउन हो जाएगा.
स्टेप 3-मावा के हल्के गरम रह जाने पर इसमें इलायची पाउडर डाल दें और फिर मिश्रण को अच्छे से मिला लें. पेड़े बनाने के लिए मिश्रण तैयार है.
स्टेप 4- थोड़ा सा मिश्रण हाथ में लेकर गोल करके, हाथ से दबाकर पेड़े का आकार दीजिए
स्टेप-5 पेड़े को प्लेट में रखे हुये बूरे में लपेटकर प्लेट में रखते जाइए. एक एक करके सारे पेड़े इसी तरह तैयार करके प्लेट में लगाते जाइए.

मथुरा के पेड़े तैयार
अब इस तरह स्वाद में लाज़वाब मथुरा के पेड़े तैयार हैं. इसे आप प्रसाद के तौर पर भी इस्तेमाल कर सकते हैं. फैमिली-फ्रेंड्स को खिला सकते हैं. एक बात और चूंकि मावा को बहुत अच्छे से भूनने पर ये खुश्क हैं. इसलिए इन पेड़ों को फ्रिज में रखकर आप एक महीने तक इसका इस्तेमाल कर सकते हैं.

Related posts

आंखों को खूबसूरत और आकर्षक बनाने के लिए करें ये 3 उपाय

Ankit Gupta

मोनसून में वायरल फीवर जल्द हो जाता है, घरेलू उपचार इमरजंसी में आ सकते है काम

Ankit Gupta

जिलाधिकारी ने निर्धारित की आलू भंडारण की दरे

Leave a Comment

Trulli
error: Content is protected !!
Open chat
Need help?
Hello
Welcome to Meerut Darpan News