मेरठ दर्पण
Breaking News
मेरठ

काली नदी सेवा अभियान को योजनाबद्ध तरीके से मूर्त रूप दिया जायेगा -जिलाधिकारी

काली नदी पटरी के दोनो ओर करायेंगे वृक्षारोपण, जनपद को मिला 29 लाख पौधारोपण का लक्ष्य-जिला वन अधिकारी

 

मेरठ-कैच द रैन कार्यक्रम के अंतर्गत काली नदी सेवा अभियान की शुरूआत आज ग्राम गांवडी से आयुक्त सुरेन्द्र सिंह व जिलाधिकारी के0 बालाजी ने श्रमदान कर की। इस अवसर पर उन्होेने पौधारोपण भी किया। कैच द रैन अभियान के अंतर्गत काली नदी पूर्वी को संवारने के लिए प्लान तैयार किया गया है। प्रथम चरण में पटरी के दायीं व बांयी ओर एक-एक किमी के क्षेत्र की सफाई, चैडीकरण व वृक्षारोपण का कार्य 15 दिन में पूर्ण किया जायेगा। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी शषांक चोधरी, सामजिक संस्था के प्रतिनिधि व ग्रामवासी उपस्थित रहे।

उल्लेखनीय है कि काली नदी मुजफ्फरनगर जिले के खतौली तहसील के अंतवाडा गांव से शुरू होकर मेरठ, हापुड, बुलंदषहर, अलीगढ, कासगंज, फरूर्खाबाद होते हुये कन्नौज में गंगा नदी में मिल जाती है। इसकी कुल लंबाई 598 किमी है। जिले में काली नदी की लंबाई करीब 40 किमी है। मेरठ में नदी तहसील सरधना के ग्राम नंगली से प्रवेश करते हुये ब्लाॅक खरखौदा के ग्राम अतराडा से होते हुये हापुड में प्रवेष करती है। पहले चरण में काली नदी सेवा कार्य के तहत गांवड़ी नदी के पुल (मेरठ-परीक्षितगढ़ मार्ग पर शहर से 6 किलोमीटर आगे) से दोनों तरफ का भाग लिया गया है।
आयुक्त मेरठ मंडल मेरठ सुरेन्द्र सिंह ने जिलाधिकारी मेरठ को धन्यवाद दिया कि उन्होंने यह बीडा उठाया कि यहां की नदियांे को साफ करना है, वृक्षारोपण कराना है तथा उन्होने मुख्य विकास अधिकारी को भी दिल से मुबारकबाद दी कि उन्होने इस कार्य की कार्य योजना बनायी और इस कार्य को अपने हाथ में लिया, उनको लंबे समय तक इसका पुण्य मिलेगा। उन्होने जिला वन अधिकारी को भी दिल से मुबारकबाद दी कि उन्होने यह बीडा उठाया है कि वह पटरी के दोनो ओर वृक्षारोपण करायेंगे तथा फलदार वृक्ष भी लगायेंगे। उन्होने कहा कि राजस्व विभाग नदी की पैमाइस का कार्य एक सप्ताह में पूर्ण करें तथा नदी की पटरियों पर वन विभाग द्वारा सघन पौधरोपण किया जाए।
आयुक्त ने कहा कि हमें नदियो की खोयी हुयी व्यवस्था को व उनको पुराने स्वरूप में लाना है। उन्होने कहा कि काली नदी के समीप पूर्व में सीवेज ट्रीटमेन्ट प्लांट लगाने पर कार्य चल रहा था। उन्होने प्रषासनिक अधिकारियों से कहा कि वह इस कार्य को देखे तथा आगे बढ़ाये। उन्होने कहा कि जनपद में जितने भी सीवेज ट्रीटमेन्ट प्लांट संचालित है उनमें यह सुनिष्चित किया जाये कि उनसे निकलने वाले जल का शुद्धिकरण आवष्यक रूप से हो। उन्होने कहा कि नदियो को शुद्ध रखना हम सबकी जिम्मेदारी है। उन्होने कहा कि नदियंा हमारी बेसिक लाईफलाईन है।
आयुक्त ने कहा कि हमें सबको मिलकर नदियो व तालाबो को उनके वास्तविक स्वरूप में लाना है, इसके लिए सामाजिक संस्थाओ व आमजन को आगे आकर योगदान देना चाहिए। उन्होने कहा कि एक्सपे्रसवे के किनारे तीन लेयर/कोर में जंगल बनाने पर भी कार्य किया जाये। उन्होने कहा कि कृषि भूमि का सदुपयोग इस कार्य हेतु किया जाये।
जिलाधिकारी के0 बालाजी ने आयुक्त मेरठ मंडल मेरठ को धन्यवाद दिया कि उन्होने अपना समय निकाल कर इस कार्यक्रम को कराने का मौका दिया। उन्होने बताया कि प्रषासन इस कार्य को पूरी जिम्मेदारी के साथ आगे बढायेगा। उन्होने कहा कि इस अभियान में जो भी लोग जुडना चाहेेंगे वह उनका स्वागत करेंगे। उन्होने कहा कि ग्राम प्रधान भी इसमें बढ़चढकर हिस्सा लेें तथा इस कार्य में जो भी अडचने आयेगी उसे दूर किया जायेगा तथा कार्य निर्बाध रूप से जारी रहे इस पर जोर दिया जायेगा।
जिलाधिकारी ने बताया कि अभियान में मनरेगा मजदूरो को भी लगाया गया है तथा पोर्कलेन मषीन, जेसीबी मशीन भी लगायी गयी है। काली नदी सेवा अभियान में सिंचाई विभाग, लघु सिंचाई, वन विभाग, ब्लाॅक, राजस्व व अन्य विभाग शामिल रहेंगे तथा सामाजिक संस्थाओ व आमजन को भी श्रमदान के लिए प्रेरित किया गया है। उन्होने कहा कि काली नदी की सफाई के लिए सभी पहलूओ को दृष्टिगत रखते हुये कार्य किया जायेगा।
मुख्य विकास अधिकारी शषांक चोधरी ने कहा कि जल संवर्द्धन व संरक्षण पर कार्य चल रहा है तथा काली नदी पूर्वी के पुनर्जीवन के लिए एक योजना बनायी गयी है जिसको मूर्त रूप दिया जायेगा। उन्होने कहा कि आयुक्त व जिलाधिकारी के मार्गदर्षन व दिषा-निर्देषन में यह कार्य कराया जा रहा है।
जिला वन अधिकारी राजेश कुमार ने बताया कि सलावा में स्पोर्टस यूनिवर्सिटी की भूमि के बदले भूमि मिलने पर क्षतिपूरक वनीकरण वन विभाग द्वारा कराया जायेगा। उन्होने कहा कि वन विभाग द्वारा काली नदी के दोनो ओर स्थित पटरियों पर चिन्हांकन का कार्य किया जायेगा। काली नदी सेवा अभियान में जैसे जैसे कार्य आगे बढेगा उसी के अनुरूप वन विभाग पौधारोपण का कार्य करायेगा। उन्होने बताया कि आज 25 पौधो का रोपण कर कार्य की शुरूआत की गयी है जो कि आगे जारी रहेगी। उन्होने बताया कि जनपद मे 29 लाख पौधारोपण का लक्ष्य है।
इस अवसर पर जिला वन अधिकारी राजेश कुमार, सिंचाई विभाग के अधिषासी अभियंता आषुतोष सारस्वत, डीडीओ, नीर फाउण्डेषन के रमन त्यागी सहित अन्य अधिकारीगण, ग्रामवासी आदि उपस्थित रहे।

Related posts

किसानों के साथ अन्याय बर्दाश्त नहीं–दीपेंद्र हुड्डा

महात्मा गाँधी कोई व्यक्ति नहीं, बल्कि एक राष्ट्रवादी विचारधारा-डॉ0 सुधीर गिरि

Ankit Gupta

कोरोना काल मे लम्बे समय तक रोग मुक्त रहने के लिए प्रयासरत – शुभांगनी राजपूत

Mrtdarpan@gmail.com

Leave a Comment

Trulli
error: Content is protected !!
Open chat
Need help?
Hello
Welcome to Meerut Darpan News